Inspiration Story in Hindi – ज़िद्दी बनो सफल बनो

Inspiration Story in Hindi – ज़िद्दी बनो सफल बनो of Surashree Rahane

नमस्कार दोस्तों मेरा नाम Shivu है और HindiZIla.com में आपका स्वागत है 

आज मैं आपके बीच एक Real Life Story Inspiration Story in Hindi लेकर आया हूं तो आइए शुरू करते हैं

मेरा नाम Surashree Rahane है और मैं नासिक के एक छोटे से गाँव कि रहने वाली हूँ l
उस गाँव में लोग मुझे एक बेटी एक बहु और एक Physically Challenged Achievers 
के तौर पे पहचानते हैं l

अगर मैं अपने गाव के बारे मे बताऊँ तो इतना छोटा है कि वहाँ पर कोइ ढंग कि School भी नहीं थी तो School के लिये मुझे अपनी Bag लेकर रोज Public Transport से से किलो मीटर दुर जाना पड़ता था किसी दिन बस मिली तो बस नहीं तो रिक्सा से जाना पड़ता था 
Inspiration Story in Hindi
Inspiration Story in Hindi
तभी मैं ये बात जान ली थी कि आपकी लडाई आपके लिये कोई और नहीं लड़ेगा वो आपको खुद लड़नी पड़ेगी और मैं आपको एक और बात बता दूं कि बचपन से हि न मैं थोड़ी जिद्दी किस्म कि हूँ और मेरी इसी जिद्द ने मुझे इस मुकाम पर पहुचाया है तो मेरी कहानी सुरु होती है मेरे बचपन से 

मेरा एक Major Operation हुआ था Operation के बाद मेरी Life Doctor और दवाई के सहारे चल रही थी अगर कोइ मुझे बाहर ले गया तो ले गया या फिर वही मेरा बेड और बेड पर पड़ी मैं मुझे आज भी याद है मेरे पापा ने Doctor से पूछा था कि मैं ठीक कब तक हो जाऊँगी फिर Doctor ने जवाब दिया था 

ज़िद्दी बनो सफल बनो – Inspiration Story in Hindi

मुझे नहीं लगता ये एक साल मे अपने पैरों पर खड़ी हो पाएगी मैं तभी इतनी गुस्सा हुइ कि मैंने सोचा डॉक्टर को मैं अभी के अभी खड़ी होके दिखा दूँ पर कुछ चिजे अपने हाथ में नहीं होती और मेरी शारीरिक विकलांगता (Physical disability) भी उनमें से ही एक चिज थी पर पता नहीं वो मेरी जिद्द थी या मेरा इरादा था 


पर मैं कभी बेड के सहारे तो कभी लोगों के सहारे निचे उतरने लगी धिरे-धिरे चलने लगी पर ये इतना भी असान नहीं था अगर मैं पैर हिलाने कि भी कोशिश करती थी तो मुझे इतना दर्द होता था कि मानो जैसे जान हि निकल रही हो पर Doctor साहब जिन्होंने ने कहा था कि मैं एक साल तक अपने पैरों पर खड़ी नहीं हो पाऊँगी


लेकिन मेरे जिद्द के हि वजह से मैं तीन महिनो में हि अपने पैरो पर चल के उनके सामने चली गयी थी इससे मैं ये सिख पाई कि ज़िंदगी में कुछ भी मुशक्लि नहीं है अगर आपका इरादा पक्का है तो आप कुछ भी हासिल कर सकते हैं यहि सिख लेके मैंने वहां से अपनी जिंदगी सुरु कि मुझे याद है जब मैं 10th में थी 


तब मेरे Board Exam के कुछ ही महीने पहले मेरे पिता जि को लकवा (Paralysis) का Attack आया घर मे इतना परेशानी था कि मैं अपने पढ़ाई पर ध्यान नहीं दे पा रही थी मैं रोज School के बाद जैसे हि मुझे टाइम मिलता तो अपने पिता जी से हॉस्पिटल मिलने चली जाती थी और मुझे देख के मेरे पापा वहीं बेड पर लेटे लेटे पूछते थे 

Story of Inspiration in Hindi

क्या मेरा शेर कैसा रहा आज का दिन पढ़ाई कैसी रही मस्ती कि या नहीं कि पर मुझे पता था मेरे पापा बहुत तकलीफ में हैं वो भी ये चीज जानते थे पर वो कभी इसका जिक्र नहीं करते थे एक दिन मैं अपने पापा के पास बैठी थी और मैंन पूछा पापा आपको दर्द नहीं होता तब उन्होंने कहा बेटा महसुस करो तो दर्द होता है ना महसूस करो तो दर्द नहीं होता 

और इस बात ने मुझे इतना प्रोत्साहित किया इतना Energy में भर दिया कि मैने किताबों को अपना Best Friend बना लिया और जोरो सोर से बढ़ाई कि सुरुआत कर दि और फिर मैं अपने City में  First आइ इसके बाद News पेपर में मेरी फोटो छपने लग गई लोग आकर मुझे और मेरे माता पिता को बधाई देने लगे लेकिन मुझे पता था कि ये तो बस सुरुआत है l


मुझे एक काफी लंबी उड़ान भरनी है और इस उड़ान के लिये मेरी जिद्द और मेरा इरादा ही मेरा साथ देगा हर एक इंसान के पास उनकी एक कमजोरी होती है और मैरी भी कमजोरी थी पर मुझे पता था इन कमजोरियों से बाहर निकलने के लिये मेरे हथियार क्या होंगे और मेरी पढ़ाई और किताबों को अपना हथियार बना लिया मैं सबसे यही कहती हूँ कि इस दुनियाँ में लाखों लोग आपकी कमजोरिया बतायेंगे पर आपकी ताकत और आपकी छमताए आपको हि पहचाननी है l  और आप ही को Mold करनी है मुझे आज भी याद है कि जब मैं Collage में थी और मेरी पढ़ाई पूरी होने के बाद मैं Job के लिये Try कर रही थी पहले दो तीन Interview मेरे ठीक नहीं हुए क्योंकि लोग मुझे बेचारी के नजर से देखते थे 

एक दिन मेरे Dream Job का Interview का Call आया फिर मैं Interview देने गई तो Interviewer ने पहले मुझे देखा फिर मेरे पैरों कि तरफ देखा और फिर Interview सुरु किया Interview काफी लम्बा था और काफी अच्छा भी रहा  फिर उन्होंने ने कहा कि बेटा हमारे पास तो कोइ Desk Job नहीं है हमारे पास सेल्स मैनेजर कि है 

Story of Inspiration in Hindi

और इसमें आपको काफी घूमना पड़ेगा पर मुझे नहीं लगता कि आपसे ये हो पायेगा तब मेरी जिद्द ने फिर से अवाज लगाइ मैंने बोला सर कैसे नहीं हो पायेगा आप एक बार मौका तो दिजिये मैं ये कर के दिखाऊँगी और उन्होंने ने मुझे एक मौका दे दिया और फिर मैंने Sales Manager of the month के कई Award जिते l


और जिन कंपनियों में मैंने इससे पहले Interview दिया था वो Startup थी मुझे Selecte नहीं किया था इसी कारन से कि that I am Physically Challenged लेकिन आज मैंने कई सारे कंपनी मे as a Angel Investor Investment किया है मैंने अपने जिंदगी कि सबसे बडी़ चीज यही सीखी है कि फेलियर्स आयेंगे जायेंगे और लाखो लोग आपको निचे खिचने कि कोशिश करेंगे पर आप उसको कैसे देखते हैं ये आप पर निर्भर करता है l


आप अगर उनके सामने जिद्दि होकर खड़े रहेंगे तो कोइ आपके जित नहीं पायेगा और बस जिद्दि होने से फायदा नहीं होगा उसके साथ आपका पुरे मन लगा कर मेहनत करना उतना हि जरुरि है आपके सपने पुरे करने के लिये कहते हैं ना जिंदगी कि असली उड़ान अभी बाकी है जिंदगी के कई इम्तिहान अभी बाकी है अभी तो नापी है मुट्ठी भर जमीन अभी तो सारा आस्मां बाकी है l

दोस्तों मैं आशा करता हूं कि आप को Inspiration Story in Hindi पढ़ कर आपको जरूर 
Inspiration मिली होगी इस तरह की और Stories के लिए हमारे इस HindiZila.com Blog पर daily visit करें धन्यवाद!

Leave a Comment